Tweets from PFL News
क्योंकि सच को जरूरत थी
रविवार, 19 मई 2024
ब्रेंकिग
न्यूज 

कोस्टगार्ड का पेपर हल करने के लेते थे 15 लाख:कंप्यूटर लैब को किराए पर लिया, ऐप से करते हैक; गैंग के 6 सदस्य गिरफ्तार-रविंद्र भाटी को धमकी देने वालों का हो एनकाउंटर:मारवाड़ राजपूत सभा के अध्यक्ष बोले- गोगामेडी को खो चुके; जेड श्रेणी की मिले सुरक्षा

Diwali 2023 : वर्षों बाद बना ऐसा संयोग, इस शुभ मुहूर्त में होगी दिवाली पर लक्ष्मी जी की सही पूजा

191 days ago   -    173 views

PFL News - Diwali 2023 : वर्षों बाद बना ऐसा संयोग, इस शुभ मुहूर्त में होगी दिवाली पर लक्ष्मी जी की सही पूजा

दिवाली कब है इस बारे में पंचांग की गणना बताती है कि हर साल की तरह ही इस साल भी कार्तिक अमावस्या के दिन दिवाली का त्योहार शुभ मुहूत में मनाया जाएगा। आइए जानते हैं अबकी बार पंचांग के अनुसार दिवाली किस दिन औऱ किस मुहूर्त में मनाना शुभ फलदायी रहेगा।

 

दीपावली या दिवाली रोशनी का त्योहार है और साल के सबसे ज्यादा मनाए जाने वाले त्योहारों में से एक है। जैसा कि रामायण में बताया गया है, इस दिन है जब भगवान राम, देवी सीता और भगवान लक्ष्मण 14 साल वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे। दिवाली का पर्व धनतेरस से शुरू होता है और भाई दूज तक रहता है। आइए जानते हैं इस साल कब है दिवाली का त्योहार।

 

 दिवाली 2023 और शुभ योग

पंचांग के अनुसार, दिवाली का त्योहार हर साल कार्तिक मास के 15वें दिन अमावस्या को मनाई जाएगी। इस साल दिवाली का पर्व देशभर में 12 नवंबर को मनाया जाएगा। इस दिन भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पूजा का भी विशेष महत्व है। 12 नवंबर को अमावस्या तिथि का आरंभ 12 नवंबर को दोपहर 2 बजकर 45 मिनट से प्रारंभ होगी और 13 नवंबर को दोपहर 2  बजकर 57 मिनट पर समाप्त होगी।

 

दिवाली के दिन माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा का विशेष महत्व है।। मान्यताओं के अनुसार, जब मुहूर्त में लक्ष्मी जी का पूजन किया जाता है तो लक्ष्मी जी वहां ठहर जाती हैं। इसलिए लक्ष्मी पूजा के लिए यह सबसे उत्तम समय माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जिस व्यक्ति के पास ज्ञान होता है इसके पास धन भी रहता है। इसलिए भगवान गणेश की पूजा की जाती है। साथ ही ऐसा कहा जाता है कि अमावस्या तिथि के दिन अगर माता लक्ष्मी किसी पर प्रसन्न हो जाती है तो उसे आरोग्य की प्राप्ति होती है।

 

दीपावली पर 5 राजयोग

इस साल दिवाली पर एक साथ 5 राजयोग देखने को मिलेगा। ये 5 राजयोग गजकेसरी, हर्ष, उभयचरी, काहल और दुर्धरा नाम के होंगे। इन राजयोगों का निर्माण शुक्र, बुध, चंद्रमा और गुरु ग्रह स्थितियों के कारण बनेंगे। वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गजकेसरी योग को बहुत ही शुभ माना जाता है। यह योग मान-सम्मान और लाभ देने वाला साबित होता है। वहीं हर्ष योग धन में वृद्धि और यश दिलाता है। जबकि बाकी काहल ,उभयचरी और दुर्धरा योग शुभता और शांति दिलाता है। वहीं कई सालों बाद दिवाली पर दुर्लभ संयोग भी देखने को मिलेगा जब शनि अपनी स्वयं की राशि कुंभ में विराजमान होकर शश महापुरुष राजयोग का निर्माण करेंगे। इसके अलावा दिवाली पर आयुष्मान और सौभाग्य योग का निर्माण भी होगा।

 

दिवाली पर लक्ष्मी-गणेश पूजा का मुहूर्त- 12 नवंबर 2023

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त: शाम 05 बजकर 40 मिनट से शाम 07 बजकर 36 मिनट तक।

अवधि: 01 घंटा 54 मिनट

प्रदोष काल- 05:29 से 08:07 तक

वृषभ काल- 05:40 से 07 :36 तक

 

दिवाली महानिशीथ काल पूजा मुहूर्त

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त्त- 11:39 से 12:31 तक

अवधि- 52 मिनट

महानिशीथ काल- 11:39  से 12:31 तक

सिंह काल- 12:12 से 02:30 तक

 

दिवाली शुभ चौघड़िया पूजा मुहूर्त

अपराह्न मुहूर्त्त (शुभ)- 01:26 से 02:47 तक

सायंकाल मुहूर्त्त (शुभ, अमृत, चल)- 05:29 से 10:26 तक

रात्रि मुहूर्त्त (लाभ)- 01:44 से 03:23 तक

उषाकाल मुहूर्त्त (शुभ)- 05:02 से 06:41 तक

 

Disclaimer 

 इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

 

यह भी पढ़े : -

Dhanteras 2023: धनतेरस के दिन भूल कर भी न करें ये काम, धनतेरस के दिन क्या ख़रीदे क्या नहीं, खरीदारी का शुभ मुर्हत ?

 

Tags diwali diwali pooja

संबंधित पोस्ट