Tweets from PFL News
क्योंकि सच को जरूरत थी
मंगलवार, 16 अप्रैल 2024

चंद्र ग्रहण 2023 : चंद्र ग्रहण तब होता है जब पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के सामने से गुजरती है, साल का आखिरी ग्रहण आज लगेगा, जानें सूतक काल की टाइमिंग?

170 days ago   -    150 views

PFL News - चंद्र ग्रहण 2023 : चंद्र ग्रहण तब होता है जब पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के सामने से गुजरती है, साल का आखिरी ग्रहण आज लगेगा, जानें सूतक काल की टाइमिंग?

चंद्र ग्रहण 2023 : चंद्र ग्रहण तब होता है जब पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के सामने से गुजरती है। वैज्ञानिक दृष्टिकोण से ग्रहण महज एक खगोलीय घटना है, लेकिन धार्मिक दृष्टि से इसे सौभाग्यशाली नहीं माना जाता है। चंद्र ग्रहण चंद्र ग्रहण का दूसरा नाम है।

 

आज शरद पूर्णिमा है, यानी कि यह 2023 का आखिरी चंद्र ग्रहण होगा। राजस्थान देश के उन राज्यों और शहरों में से है जहां से यह दिखाई देगा। चंद्र ग्रहण के कारण राज्य के सभी प्रमुख मंदिर बंद रहेंगे।

 

सूतक काल की टाइमिंग

जोधपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि 28 अक्टूबर को  भारत में ग्रहण की शुरुआत मध्य रात्रि 01:05 बजे से होगी. मध्य रात्रि 02:24 बजे तक ग्रहण रहेगा. चंद्र ग्रहण का सूतक ग्रहण शुरू होने से ठीक 9 घंटे पहले से शुरू हो जाता है और ग्रहण खत्म होने के साथ सूतक भी खत्म हो जाता है. चंद्र ग्रहण के समय दान-पुण्य करने का विशेष महत्व है. अगर इस दौरान राशि अनुसार दान किए जाते हैं तो कुंडली के कई दोषों का असर कम सकता है. 28 अक्तूबर को लगने वाला चंद्रग्रहण भारत में दिखाई देगा जिस कारण से इसका सूतक काल मान्य रहेगा. सूतक चंद्रग्रहण लगने से 9 घंटे पहले शुरू हो जाता है.

 

चंद्र ग्रहण की टाइमिंग

जोधपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि 28 अक्टूबर को  भारत में ग्रहण की शुरुआत मध्य रात्रि 01:05 बजे से होगी. मध्य रात्रि 02:24 बजे तक ग्रहण रहेगा. चंद्र ग्रहण का सूतक ग्रहण शुरू होने से ठीक 9 घंटे पहले से शुरू हो जाता है और ग्रहण खत्म होने के साथ सूतक भी खत्म हो जाता है. चंद्र ग्रहण के समय दान-पुण्य करने का विशेष महत्व है. अगर इस दौरान राशि अनुसार दान किए जाते हैं तो कुंडली के कई दोषों का असर कम सकता है. 28 अक्तूबर को लगने वाला चंद्रग्रहण भारत में दिखाई देगा जिस कारण से इसका सूतक काल मान्य रहेगा. सूतक चंद्रग्रहण लगने से 9 घंटे पहले शुरू हो जाता है.

 

सूतक को मानते हैं अशुभ

इस बार साल का दूसरा चंद्र ग्रहण शाम 4:05 बजे शुरू होगा. ज्योतिषाचार्य डॉ. अनीष व्यास के अनुसार 28 अक्टूबर को. सूतक काल को अशुभ माना जाता है। चंद्र ग्रहण तब होता है जब पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के सामने से गुजरती है। वैज्ञानिक दृष्टिकोण से ग्रहण महज एक खगोलीय घटना है, लेकिन धार्मिक दृष्टि से इसे सौभाग्यशाली नहीं माना जाता है। चंद्र ग्रहण चंद्र ग्रहण का दूसरा नाम है।

 

मेष राशि वाले संभलें

ज्योतिषाचार्य डॉ. अनीष व्यास के अनुसार, अश्विनी नक्षत्र और मेष राशि वह राशियां हैं, जिस दौरान यह चंद्र ग्रहण घटित होता है। अश्विनी नक्षत्र और मेष राशि में जन्म लेने वालों को विशेष रूप से प्रतिकूल परिणाम मिल सकते हैं और उन्हें दुर्घटनाओं का डर हो सकता है। आश्विन माह में चंद्र ग्रहण के कारण अकाल, भूकंप और अन्य प्राकृतिक आपदाओं से होने वाली जान-माल की हानि को लेकर चिंता रहेगी। इसके अलावा लोहा, कच्चा तेल और लाल रंग की वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी देखी जा सकती है। शासकों के बीच असहमति के परिणामस्वरूप डॉक्टरों, चिकित्सकों और व्यवसायों को अधिक नुकसान हो सकता है। चीन, ईरान, इराक, अफगानिस्तान आदि देशों में अशांति, आतंक, भूकंप आदि की अधिक घटनाएं हो सकती हैं।

 

कहां-कहां दिखाई देगा चंद्र ग्रहण

ज्योतिषाचार्य डॉ. अनीष व्यास के अनुसार साल का अंतिम चंद्र ग्रहण चीन, ईरान, रूस, कजाकिस्तान, सऊदी अरब, सूडान, इराक, तुर्की, अल्जीरिया, जर्मनी, नेपाल, श्रीलंका, बांग्लादेश, पाकिस्तान में दिखाई देगा। भारत के अलावा अफगानिस्तान, भूटान, मंगोलिया, पोलैंड, नाइजीरिया, दक्षिण अफ्रीका, इटली, यूक्रेन, फ्रांस, नॉर्वे, यूके, स्पेन, स्वीडन, मलेशिया, फिलीपींस, थाईलैंड, ऑस्ट्रेलिया, जापान और इंडोनेशिया। भारत का चंद्र ग्रहण निम्नलिखित शहरों में देखा गया: मदुरै, मुंबई, नागपुर, पटना, रायपुर, राजकोट, रांची, उदयपुर, उज्जैन, वडोदरा, वाराणसी, प्रयागराज, चेन्नई, हरिद्वार, दिल्ली, गुवाहाटी, जयपुर, जम्मू, कोल्हापुर, कोलकाता, और लखनऊ कई शहरों में इसे देखा जा सकेगा, जिनमें बेंगलुरु, भोपाल, भुवनेश्वर, चंडीगढ़, देहरादून, लुधियाना, आगरा, रेवारी, अजमेर, अहमदाबाद और द्वारका, मथुरा, हिसार, बरेली, कानपुर और आगरा शामिल हैं।

 

पांच राशि वालों को होगा फायदा

कुंडली विशेषज्ञ डॉ. अनीष व्यास के अनुसार, वैदिक ज्योतिष के अनुसार प्रत्येक ग्रहण का सभी राशियों के लोगों पर शुभ और अशुभ दोनों तरह का प्रभाव पड़ता है। 28 अक्टूबर 2023 को साल के आखिरी चंद्र ग्रहण से वृष, मिथुन, कन्या, धनु और मकर राशि के लोगों को फायदा होगा। इन राशि के लोगों का अधूरा काम जल्द ही पूरा हो जाएगा। स्थिति में सम्मान बढ़ेगा। धन लाभ शीघ्र हो सकता है। ऑफिस में उपलब्धियां हासिल होंगी. नौकरीपेशा लोगों के लिए वेतन वृद्धि और नौकरी में पदोन्नति की संभावना है। सौदा चाहने वालों को अनुकूल शर्तें मिल सकती हैं। पैतृक संपत्ति से भी धन लाभ होने की संभावना है। इन सिग्नलों के निवासी सफल होंगे।

Tags chanra grahan chandra grahan 2023

संबंधित पोस्ट