Tweets from PFL News
क्योंकि सच को जरूरत थी
शुक्रवार, 14 जून 2024
ब्रेंकिग
न्यूज 

कोस्टगार्ड का पेपर हल करने के लेते थे 15 लाख:कंप्यूटर लैब को किराए पर लिया, ऐप से करते हैक; गैंग के 6 सदस्य गिरफ्तार-रविंद्र भाटी को धमकी देने वालों का हो एनकाउंटर:मारवाड़ राजपूत सभा के अध्यक्ष बोले- गोगामेडी को खो चुके; जेड श्रेणी की मिले सुरक्षा

दूरदर्शन की इस डिटेक्टिव सीरीज के आगे फेल हैं क्राइम पेट्रोल और दिल्ली क्राइम

225 days ago   -    160 views

PFL News - दूरदर्शन की इस डिटेक्टिव सीरीज के आगे फेल हैं क्राइम पेट्रोल और दिल्ली क्राइम

दूरदर्शन की इस डिटेक्टिव सीरीज के आगे फेल हैं क्राइम पेट्रोल और दिल्ली क्राइम, टीवी पर आते ही पसर जाता था सन्नाटा

 

 क्राइम पेट्रोल, दिल्ली क्राइम, स्पेशल स्क्वॉड, डिटेक्टिव दीदी और सीआईडी जैसे सीरियल तो आपने टीवी पर कई बार देखे होंगे, जिन्हें दर्शकों ने काफी पसंद भी किया है. लेकिन DD1 के इस पहले डिटेक्टिव सीरीज के आगे सभी फेल हैं. यह साल 1985 में आया था, जिसके टीवी पर आते ही सन्नाटा पसर जाता था. यह पहली भारतीय डिटेक्टिव सीरीज में से एक. इस सीरीज को खूब प्यार मिला है और आज भी अगर यह टीवी पर आ जाए तो दर्शक देखने के लिए बैठ जाते हैं. हम बात कर रहे हैं करमचंद सीरियल की, जो डीडी वन पर दिखाया जाता था. इसके कुल 72 एपिसोड और 2 सीजन थे. इसमें बॉलीवुड एक्टर पंकज कपूर, सुष्मिता मुखर्जी, अर्चना पूरन सिंह सुचेता खन्ना और अतुल पर्चरे लीड रोल में नजर आए थे.

 

कहानी की बात करें तो करमचंद एक जासूस है, जो अपने अनोखे अंदाज में लोकल पुलिस को हत्याओं को सुलझाने में मदद करता है. हमेशा गाजर खाता रहता है और अक्सर पुलिस इंस्पेक्टर ए. खान के साथ शतरंज खेलता रहता है. उसकी एक मज़ेदार असिस्टेंट है किट्टी, जो कि जब भी वह कोई मूर्खतापूर्ण प्रश्न पूछती है या लगभग रहस्य खोल देती है, तो करमचंद कहते हैं, "चुप रहो, किट्टी". यह डायलॉग काफी फेमस हुआ था. वहीं साल 2006 में इस सीरियल को दोबारा दिखाया गया था सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन पर.

 

डिटेक्टिव सीरियल था करमचंद बता दें, पंकज त्रिपाठी आज इंडस्ट्री के टेलेंटेड एक्टर्स की लिस्ट में गिने जाते हैं. लेकिन आझ भी उनके टीवी शो जबान संभालके, ऑफिस ऑफिस, नीम का पेड, नया ऑफिस ऑफिस, भारत एक खोज, फटीचर जैसे शोज फेमस हैं.

 

यह भी पढ़े :-

अशोक गहलोत का जलाया पुतला अमिन खान का शिव विधानसभा क्षेत्र से नाम घोषित होते ही विरोध हुआ शुरू, 10वीं बार मिला अमिन खान को टिकट

 

Sachin Tendulkar : नाक से खून गिरने के बावजूद पाकिस्तानी गेंदबाजों का घमंड तोड़ा फिर वही लड़का बना क्रिकेट का भगवान

 

Tags

संबंधित पोस्ट