Tweets from PFL News
क्योंकि सच को जरूरत थी
रविवार, 19 मई 2024
ब्रेंकिग
न्यूज 

कोस्टगार्ड का पेपर हल करने के लेते थे 15 लाख:कंप्यूटर लैब को किराए पर लिया, ऐप से करते हैक; गैंग के 6 सदस्य गिरफ्तार-रविंद्र भाटी को धमकी देने वालों का हो एनकाउंटर:मारवाड़ राजपूत सभा के अध्यक्ष बोले- गोगामेडी को खो चुके; जेड श्रेणी की मिले सुरक्षा

नई संसद भवन उद्घाटन को लेकर बोले नीतीश कुमार 'पुराना इतिहास बदलना चाहते हैं बस...'

358 days ago   -    201 views

PFL News - नई संसद भवन उद्घाटन को लेकर बोले नीतीश कुमार 'पुराना इतिहास बदलना चाहते हैं बस...'

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रविवार को नए संसद भवन का उद्घाटन करेंगे, जिसे लेकर जमकर सियासत हो रही है। कांग्रेस सहित विपक्ष के 21 दलों ने उद्घाटन समारोह का बॉयकॉट करने का फैसला किया है। विपक्षी दलों का कहना है कि देश की संसद का उद्घाटन राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के हाथों होना चाहिए। अब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अलग ही बयान देते हुए कहा कि नया संसद भवन नहीं बनना चाहिए था। उन्होंने कहा कि सरकार पुराना इतिहास बदलना चाहती है।

क्या कहा नीतीश ने

मीडिया से बात करते हुए नीतीश कुमार ने कहा, 'शुरू में भी बात हो रहा था कि ये (संसद भवन) बन रहा है, तो भी हमको अच्छा नहीं लग रहा था। ये तो इतिहास है, आजादी हुई तो जिस चीज की जहां पर शुरूआत हो गई, उसे वहीं पर विकसित कर देना चाहिए। अलग से बनाने का कोई मतलब नहीं है। क्या पुराना इतिहास ही बदल दीजिएगा? हमको अच्छा नहीं लग रहा है कि ये नया संसद भवन बना रहे हैं। पुराना इतिहास बदलना चाहते हैं बस। नया संसद भवन नहीं बनाना चाहिए था। जो पुराना संसद भवन था उसी को सही करना चाहिए था। मैं तो इसके खिलाफ हूं। ये लोग सब इतिहास बदलना चाह रहे हैं। बेकार है वहां जाना। कोई मतलब नहीं है वहां जाने का। क्या जरूरत है वहां जाने की और उस भवन को बनाने की।'

इतिहास बदलना चाहती है सरकार

उद्घाटन समारोह का विपक्षी दलों द्वारा विरोध किए जाने पर नीतीश ने कहा,  'खैर और पार्टियां कह रही हैं कि वो राष्ट्रपति को नहीं बुलाने की वजह से नहीं जा रही है। वो जो भी कारण हैं, लेकिन हमको लगता कि इसकी क्या जरूरत थी अलग से बनाने की तो बिल्डिंग थी उसी को ठीक करते, जो इतिहास है उसे भुला देंगे क्या? आप जान लीजिए कि जो आजकल शासन में हैं वो सारे इतिहास को बदल देंगे। आजादी की लड़ाई के इतिहास को बदल देंगे। जो पहले पीएम थे नेहरू जी, उनकी मौत के समय हम स्कूल में पढ़ रहे थे...हम मानते हैं कि देश का जो इतिहास है वो बहुत आवश्यक है... नया बनाने की क्या जरूरत थी..इन लोगों को तो पूरा इतिहास बदलना है, इसलिए बदल रहे हैं।'

वहीं नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू रविवार को इस उद्घाटन समारोह का विरोध करेगी. बिहार जदयू अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने कहा,'जदयू के पदाधिकारी पटना उच्च न्यायालय के पास बीआर अंबेडकर की प्रतिमा पर इकट्ठा होंगे और रविवार को एक दिन का उपवास रखेंगे, जो प्रथम नागरिक के अपमान के विरोध में होगा, जो शीर्ष पद पर आसीन होने वाली पहली आदिवासी महिला भी हैं'

Tags @central vista @new parliyament #PFL News

संबंधित पोस्ट